सबसे हल्का आधुनिक सुपरसोनिक विमान तेजस The lightest modern supersonic aircraft Tejas

स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान तेजस ने 12 मई,2017 को सफलतापूर्वक डर्बी मिसाइल के सहयोग से लक्ष्य को नष्ट किया| इस मिसाइल ने हवा से हवा में मार करने वाली अपनी बियोंड विजुअल रेंज(बीवीआर) मिसाइल दागने की क्षमता का प्रदर्शन किया| इसके सफल परीक्षण से स्वदेशी मिसाइल तकनीक ताकतवर तो हुई, साथ ही दृश्यता के पार जाकर मारक क्षमता(बियोंड विजुअल रेंज) भी हासिल हो गई| हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल ने राडार निर्देशन मोड़ में चांदपुर के एकीकृत परीक्षण केंद्र(आईटीआर) में एक मैनोयुरेबल एरियल लक्ष्य पर सटीक निशाना लगाया| यह परिक्षण सभी मापदण्डो पर खरा उतरा है|

आईटीआर के सेंसर ने लक्ष्य और मिसाइल का पता लगाया| इस परीक्षण का उद्देश्य तेजस पर मौजूद प्रणालियों के साथ डर्बी को जोड़े जाने का आकलन करना और इसके प्रदर्शन का सत्यापन करना था| इन प्रणालियों में एवियोनिक्स, अग्नि नियंत्रण राडार, लोन्चर और मिसाइल हथियार आपूर्ति प्रणाली शामिल है|

रक्षा मंत्रालय के अनुसार यह परीक्षण सभी मानकों पर खरा उतरा है और योजना के अनुसार यह अपने मकसद में कामयाब रहा| तेजस लड़ाकू विमान बनाने की देश की क्षमता की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है| यदि सब कुछ सामान्य रहा तो अगले वर्ष तेजस वायुसेना में पुराने मिग 21 का स्थान ले लेगा|

तेजस की मुख्य विशेषताएं

  1. तेजस का कुल वजन 6540 किलोग्राम है| सिंगल इंजन वाले इस विमान को हिंदुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड ने तैयार किया है|
  2. यह 50 हजार फीट उचाई तक उडान भरने में सक्षम है और एक बार में 3000 किलोमीटर की दूरी तय कर सकता है|
  3. तेजस हवा में ईधन भर सकता है|
  4. तेजस की सबसे बड़ी खासियत यह है की इसमें नौ तरह के हथियार लोड किए जा सकते है|
  5. दुश्मन पर हमला करने के लिए, इसमें हवा से हवा में मार करने वाली डर्बी मिसाइल लगी है, हवा से पृथ्वी पर मार करने वाली मिसाइल, जमीन पर निशाना लगाने के लिए आधुनिक लेजर गाइडडे बम लगे हुए हैं|
  6. अगर ताकत की बात करें तो तेजस पुराने मिग 21 से कहीं ज्यादा आगे है और मिराज 2000 से इसकी तुलना कर सकते है| यही नहीं चीन और पाकिस्तान के साझा उपक्रम से बने जेएफ 17 से कहीं ज्यादा बहतर है| तेजस का फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम जबरदस्त है|
  7. भारतीय लाइट कोम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस दुनिया का सबसे छोटा, सबसे हल्के वजन का और आधुनिक सुपरसोनिक विमानों के अपने वर्ग में बहु भूमिका वाले लड़ाकू विमान है| यह एक एकल सीट लड़ाकू विमान है|
  8. एकल जेट इंजन वाला भारतीय नौसेना और वायु सेना के लिए हिंदुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड द्वारा विकसित किया गया है| विमान में डेल्टा विंग कोंफिग्रेशन है, जिसमें कोई तेपलेन या फोरप्लेन नहीं है| एलसीए एल्युमिनियम लिथियम मिश्र धातु, कार्बन फाइबर कंपोजिट और टाइटेनियम से निर्मित है|