Kim Jong Un

प्राचीन और मध्ययुगीन इतिहास में राजाओं, सुल्तानों और बादशाहों की तानाशाही के तमाम सारे उदाहरण मिलते हैं। राजा, महाराजा, सुल्तान या बादशाह स्वेच्छारी हो सकते थे। क्योंकि उनके ऊपर जनतांत्रिक नियंत्रण नहीं था। विश्व के राजनीतिक परिदृश्य में जब लोकतंत्र का आगाज हो रहा था वैसे हालात में तानाशाही शासन की अवधारणा समझ से परे थी। लेकिन सच ये है कि दुनिया ने ऐसे सनकियों का शासन देखा जिससे दुनिया बर्बादी के कगार पर आ पहुंची।

किम जोंग

उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन जिस तरह से हर काम पर अड़ियल रुख अपनाता है और हर फैसले पर अडिग रहताहै उससे माना जा रहा है कि वह दुनिया का अगला हिटलर साबित हो सकता है। किम जोंग की सनक और खौफनाक कारनामों के किस्से मशहूर हैं। वह एक ऐसा तानाशाह है जो अपने सगेसंबंधियों पर भी रहम नहीं करता। किसी को मौत देना उसके लिए लिए सबसे छोटा काम है।

फूफा को 120 शिकारी कुत्तों के सामने फेंकवाया

किम जोंग ने साल 2013 में अपने सगे फूफा को बेरहमी से मरवा दिया था। उसने अपने फूफा को खूंखार कुत्तों के सामने डलवा दिया था। 120 शिकारी कुत्तों ने किम के फूफा जेंग सेंग को नोच नोच कर मार डाला | कहा जाता है कि जिस फूफा को सनकी तानाशाह ने मरवा दिया उसी ने उसे सियासत की बारीकियां सिखाई थीं। लेकिन किम जोंग को लगने लगा था कि फूफा का प्रभाव उससे ज्यादा हो रहा है तो उसने फूफा पर कुछ आरोप लगाकर उसे उसकी हत्या करा दी।

बुआ को दिया जहर

किम जोंग की बुआ ने जब अपने पति की मौत पर सवाल उठाया तो उसे भी जहर दिला दिया गया। इसके बाद बताया गया कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है। 2015 में कोरिया भागे एक अफसर ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा था कि जोंग ने अपनी बुआ की हत्या करा दी।

झपकी लेने में सेना प्रमुख को मरवाया

किम जोंग को फरमान पर आनाकानी पसंद नहीं है, क्योंकि ऐसा करने वाले को सिर्फ सजामौत होती है। तानाशाह के बार किम जोंग ने उत्तर कोरिया के रक्षा प्रमुख ह्योंग योंग तोप से उड़वा दिया था। उनकी गलती सिर्फ इतनी थी कि उन्होंने किम जोंग की एक मीटिंग में झपकी लेने की हिमाकत कर दी थी।

नहीं रोने पर होती है सजा मौत

कहा जाता है कि किंम जोंग के पिता की जब मौत हुई तो ऐलान किया गया कि अंतिम संस्कार में मौजूद हर किसी को रोना होगा। लेकिन जिन लोगों के मौके पर आंसू नहीं आए उन्होंने उन्हें सजा ए मौत मिली। शोक नहीं वाले लोगों को गिरफ्तार किया गया और गोली मार दी गई।

स्कूल में अश्लील साहित्य पढ़ते हुए मिला

कहा जाता है कि किंग जोंग ने स्विटजरलैंड के इंटरनेशनल स्कूल ऑफ बर्न में दूसरे नाम से पढ़ाई की। स्कूल में वह काफी कमजोर छात्र था। उसकी सोहबत ठीक नहीं थी। एक बार वो स्कूल में उसे पोर्न मैगजीन पढ़ते हुए पकड़ा गया था।

सनक में लेता है कोई भी फैसला

किम जोंग उन को सबसे सनकी तानाशाह बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि 2015 में साउथ कोरिया में बार्डर पर लाउडस्पीकर लगाकर अपना प्रोपेगंडा लोगों को सुनाना शुरू किया था। इस पर किम जोंग उन बौखला गया और सीमा पर अपने सैनिक भेज दिया। किम जोंग ने ऐलान किया कि अगर साउथ कोरिया ने लाउड स्पीकर नहीं बंद किए तो उसकी सेना हमला कर देगी। इसके बाद बड़ी मशक्कत से दोनों देशों का विवाद सुलझा था।
खुद को भगवान बताता है तानाशाह :
उत्तरी कोरिया का तानाशाह किम जोंग खुद को भगवान के रूप में पेश करता है। वह अपने देश के नागरिकों के बीच ऐसे तथ्य पेश करता है जिसे लोग उसे भगवान मानने लगें।