इसरो का उच्च क्षमता स्वदेशी विमान (फैटबॉय) का सफल परीक्षणSuccessful test of ISRO’s high capacity indigenous aircraft (Fatboy)

Geosynchronous Satellite Launch Vehicle Mark III(GSLV  MK III) श्रीहरिकोटा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने सोमवार को पहली विकास उड़ान में एक उच्च क्षमता स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन को फायरिंग करके सफलतापूर्वक परीक्षण से अपने सबसे शक्तिशाली रॉकेट, जीएसएलवी एम III का सफल परीक्षण किया जिसे ‘फैटबॉय’ नाम दिया। लॉन्च के साथ,  इसरो ने क्रायोजेनिक इंजन विकसित करने में अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया था। GSLV MK III में CE-20 क्रायोजेनिक नोदन इंजन का उपयोग किया गया है| इस प्रक्षेपण ने चंद्रयान-2 और एक मानव मिशन सहित अपनी महत्वाकांक्षी भविष्य की परियोजनाओं के लिए एक मजबूत आधार भी स्थापित किया है| इस सफल परीक्षण से भारी उपग्रह अन्तरिक्ष में भेज सकेंगे| जीएसएलवी ऐसा बहुचरण रॉकेट होता है जो दो टन से अधिक भार के उपग्रह को पृथ्वी से 36000 कि॰मी॰ की ऊंचाई पर भू-स्थिर कक्षा में स्थापित कर देता है जो विषुवत वृत्त या भूमध्य रेखा की सीध में होता है।

GSLV  MK III को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में दूसरे लांच पैड से 5.28 बजे तक लोंच किया गया। टेकऑफ़ के करीब 16 मिनट के बाद, वाहन ने उपग्रह को भू-सिंक्रोनस स्थानान्तरण कक्ष में रखा।

GSLV  MK III की ऊंचाई- 43.43 मी. (142.5 फुट),व्यास- 4.0 मी. (13 फुट) भार- 6,40,000 कि॰ग्रा॰ (14,00,000 पौंड) है| इसका इस्तेमाल सोमवार को उपग्रह GSAT-19 को अंतरिक्ष में करने के लिए किया गया था, जिसका वजन केवल 3,136 किलोग्राम था|

  1. अपने सफल मंगल मिशन के बाद, यह अंतरिक्ष में एक आदमी को भेजने के लिए इसरो के अगले कदम है।
  2. इसका मुख्य उद्देश्य चार-टन सामान के साथ रॉकेट की वायुमंडलीय उड़ान स्थिरता का परीक्षण करना है। दूसरा क्रू मॉड्यूल वायुमंडलीय पुनः प्रवेश प्रयोग नामक चालक दल के मॉड्यूल के पुनः प्रवेश विशेषताओं का अध्ययन करना है।
  3. इसरो के मानव मिशन के लिए अन्य महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियां भी विकसित की जानी चाहिए। ये अन्य केंद्रों पर समांतर तरीके से विकसित किए जा रहे हैं। लेकिन वातावरण से बाहर कैप्सूल की वसूली के लिए सबसे पहले परीक्षण किया जाएगा।
  4. जीएसएलवी मार्क तृतीय सबसे बड़ी अगली पीढ़ी के रॉकेट है, जो इनसैट -4 वर्ग के भारी संचार उपग्रहों को लॉन्च करने में इसरो स्व-निर्भर बनाने की कल्पना की गई है, जो कि 4,500-5000 किलोग्राम वजन करती है। परिचालन के बाद, इस रॉकेट में संचार उपग्रहों के चार टन वर्ग इंटैट श्रृंखला को भर्ती करने की क्षमता होगी, जो वर्तमान में एरियन स्पेस के माध्यम से शुरू की जा रही है।
  5. पिछले चार वर्षों के दौरान जीएसएलवी रॉकेट का दूसरा मिशन है,  जब इस तरह की दो लॉन्च 2010 में विफल हुई थी।