भारत भूमि और उसके निवासी Land of India and its inhabitants

भारत

विश्व  में भारत मानव जाति का पालना, मानव भाषा की जन्मस्थली, इतिहास की जननी, पौराणिक कथाओं की दादी और परंपरा की परदादी रहा है| मानव इतिहास में हमारी सर्वाधिक मूल्यवान और सर्वाधिक शिक्षाप्रद सामग्री का खजाना केवल भारत में निहित है|

भारत एक बेजोड़ संस्कृति वाला देश है| भारत का कुल क्षेत्रफल 32,87,263    वर्ग किलोमीटर है| आकार की दृष्टि से भारत विश्व में सातवें स्थान पर एवं जनसंख्या की दृष्टि से दूसरे स्थान पर है|

भारत का अक्षांशीय विस्तार करीब  3,214  किलोमीटर और पूर्व से पश्चिम की तरफ देशांतर  विस्तार करीब 2,933 किलोमीटर है| इसकी स्थलीय सीमा करीब 15,200 किलोमीटर है| मुख्य भूमि लक्षद्वीप समूह और अंडमान निकोबार द्वीप समूह सहित तट रेखा की कुल लम्बाई 7,516.6  किलोमीटर है|

प्राकृतिक पृष्ठभूमि

भारत की सीमा उत्तर पश्चिम में अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान, उत्तर में चीन, भूटान तथा नेपाल, सुदूर पुर्व में म्यामां और पूर्व में बांग्लादेश से लगती है| देश को मुख्य रूप से 6 अंचलों, उत्तरी, दक्षिणी, पूर्वी, पश्चिमी, मध्यवर्ती और पूर्वोत्तर अंचल में वर्गीकृत किया जा सकता है| यहा 29 राज्य और 7 केंद्रशासित प्रदेश है|

प्राकृतिक संरचना

संरचना के आधार पर  भारत भूमि को  मुख्य चार भागों में बांटा गया है| विशाल हिमालय क्षेत्र, गंगा और सिंधू के मैदानी भाग, रेगिस्थान क्षेत्र और दक्षिणी प्रायद्वीप में बती है|

हिमालय में उपजाऊ घाटियां प्राकृतक सौंदर्य से भरपूर है| हिमालय की ये पर्वतमाला करीब 2,400 किली मीटर में फैली है| जो अलग अलग स्थानों पर 240 से 320 किलोमीटर तक चौड़ी है| इन पर्वतमालाओं में विश्व की सबसे उंची चोटियां स्थित है| दिल्ली में यमुना और बंगाल की खाड़ी के बीच करीब 1,600 किलोमीटर क्षेत्र की ऊंचाई में केवल 200 मीटर का डाल है|

भौगोलिक संरचना

भौगोलिक क्षेत्र मुख्य रूप से भौतिक विशेषताओं का अनुसरण करता है| इसे तीन क्षेत्रों में वर्गीकृत किया गया है, हिमालय और उससे जुडी पर्वतमालाओं का समूह, सिंधू गंगा का मैदान और प्रायद्वीपीय ढाल|

नदी प्रणालियां

भारतीय नदी प्रणाली को चार भागों में विभक्त किया गया है, हिमालयी नदियों, दक्षिणी नदियां, तटवर्ती नदियां, अंतरदेशीय बरसाती नदियों में विभक्त किया गया है| हिमालय नदियां बर्फ और हिमनदों के पिघलने से बनती है| और इसीलिय यर वर्षभर निरंतर बहती रहती है| बाकि ज्यादातर नदिया वर्षा पर निर्भर करती है|

वनस्पति

भारत वनस्पति की दृष्टी से अत्यंत समृद्ध है कोलकाता में स्थित भारतीय वनस्पति विज्ञानं सर्वेक्षण के अनुसार भारत में 46,000 पादप प्रजातीय पाई जाती है| यहाँ उत्कृष्ट वानस्पतियों की लगभग 15,000 किस्में पाई जाती है| उपलब्ध आंकड़ो के अनुसार पादप विविधता की दृष्टि से भारत का विश्व में 10 और एशिया में चौथा स्थान है|

जनसंख्या

भारत की जनसंख्या 1 मार्च 2011 को 121.09 करोड़ थी 62.32 करोड़ पुरुष 58.75 करोड़ महिला है भारत का जनसंख्या घनत्व 2011 में 382 प्रति वर्ग किलोमीटर था| विश्व की सतह के 13.579 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में भारत की हिस्सेदारी मात्र 2.4 प्रतिशत है|

लिंग अनुपात

एक हजार पुरुष की तुलना में महिलाओं की संख्या को लीन अनुपात कहते है|

साक्षरता

2011 की जनगणना के प्रयोजन के लिए 7 वर्ष और ऊपर की आयु के ऐसे व्यक्ति को साक्षर समझा गया है,जो किसी भी भाषा को पढ़ने और लिखने सक्षम हो| ऐसा व्यक्ति जो पढ़ सकता है लिख नहीं सकता, को साक्षर नहीं माना जाता है|

2011 की जनगणना के परिणामों से पता चलता है की देश में साक्षारता में वृध्दि हुई है|देश की साक्षरता 73 प्रतिशत है| जिसमें 80.9 प्रतिशत पुरुष तथा 64.6 महिला है| 94 प्रतिशत साक्षरता के साथ केरल प्रथम स्थान एवं 91.9 प्रतिशत लक्षद्वीप दुसरे स्थान पर है| साक्षरता में बिहार अंतिम स्थान पर जहा 61.8 प्रतिशत है| 96.1 प्रतिशत पुरुष साक्षर और 92.1 प्रतिशत महिला साक्षरता के साथ केरल प्रथम स्थान और इसके विपरीत बिहार में 71.2 प्रतिशत पुरुष 51.5 प्रतिशत महिला साक्षरता दर है जो अंतिम स्थान पर है|       

भारतीय राष्ट्रीय प्रतीक Indian national symbol

राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा National flag tiranga

भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा है, जिसमें समानांतर तीन रंगों की पट्टीयां होती है| सबसे ऊपर वाली गहरी केसरिया पट्टी होती है मध्य में सफेद और सबसे नीचे गहरी हरे रंग की पट्टी होती है| ध्वज की लम्बाई और चौड़ाई का अनुपात 3:2 होता है| सफेद पट्टी के केंद्र में एक गहरे नीले रंग का चक्र होता है, जिसका प्रारूप सम्राट अशोक के सारनाथ स्थित सिंह स्तंभ पर बने चक्र की तर्ज पर बनाया गया है| इसका व्यास सफेद पट्टी की चौड़ाई के समान है| और इसमें 24 तिल्लियां होती है| भारत की संविधान सभा ने राष्ट्र ध्वज के प्रारूप को 22 जुलाई, 1947 को अपनाया|

सरकार द्वारा समय समय पर जारी गैर सांविधिक अनुदेशों के अतिरिक्त राष्ट्रीय ध्वज के प्रदर्शन पर राजचिन्हों और नामों के दुरूपयोग की रोकथाम अधिनियम 1950 ( 1950 का 12वां) और राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम, 1971 ( 1971 का 69वां ) की व्यवस्थाएं लागु होंगी|

राजचिन्ह

भारत का राजचिन्ह सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तंभ की अनुकृति है| मूल स्तंभ में शीर्ष 4 सिंह है, जो एक दूसरे की और पीठ किए हुए है| इसके नीचे घंटे के आकार के पदम के उपर एक चित्र वल्लरी में एक हाथी, चौकड़ी भरता हुआ एक घोडा, एक सांप तथा एक सिंह की उभरी हुई मुर्तियां है| जिनके बीच बीच में चक्र बने हुए है| चिकने बलुआ पत्थर के एकल ब्लोक को काटकर बनाए गए इस स्तंभ पर धर्मचक्र सुशोभोदित है|

भारत सरकार द्वारा 26 जनवरी, 1950 को अपनाए गए  राजचिन्ह में केवल 3 सिंह दिखाई पढ़ते थे पट्टी के मध्य में नक्काशी में चक्र है| जिसके दाई और एक सांड और बाई और एक घोडा है| दाएं और बाएं छोरों पर अन्य चक्रों के किनारे है| घंटाकार पदम छोड़ दिया गया है| फलक के नीचे मुंडकोपनिषद का सूत्र सत्यमेव जयते देवनागरी लिपि में अंकित है| जिसका अर्थ है – सत्य की ही विजय होती है|

भारत के राजचिन्ह का उपयोग भारत के राजकीय ( अनुचित उपयोग निषेध ) अधिनियम, 2005 के तहत नियंत्रित होता है|

राष्ट्रीयगान

रविन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा मूल रूप से बांग्ला में रचित और संगीतबद्ध जन गण मण के हिंदी संस्करण को संविधान सभा ने भारत के राष्ट्रगान के रूप में 24 जनवरी, 1950 को अपनाया था| यह सर्वप्रथम 27 दिसंबर 1911 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन में गाया गया था| पुरे गीत में 5 पद है| प्रथम पद राष्ट्रीयगान का पूरा पाठ है जो इस प्रकार है:

जन गण मण अधिनायक जय हे

भारत भाग्य विधता|

पंजाब सिन्धगुजरात मराठा

द्राविड उत्कल बंग

विंध्य हिमाचल यमुना गंगा

उच्छल जलधि तरंग|

तब शुभ नामे जागे, तब शुभ आशीष मांगे

गाहे तब जय गाथा|

जन गण मंगलदायक जय हे

 भारत भाग्य विधाता|

जय हे, जय हे, जय हे,

जय जय जय जय हे|

राष्ट्रीगान के गायन की अवधि लगभग 52 सेकेण्ड होती है| कुभ अवसरों पर राष्ट्रीगान को संक्षिप्त रूप में गाया जाता है|जिसमे इसकी प्रथम और अंतिम पंक्तियों ( गाने का समय लगभग 20 सेकेण्ड  ) होती है|

राष्ट्रीयगीत

बंकिमचंद्र चटर्जी ने संस्कृत में वन्दे मातरम् गीत की रचना की, जिसे जन गण मन के समान दर्जा प्राप्त है| यह गीत स्वतंत्रता संग्राम में जन जन का प्रेरणा स्रोत था| यह गीत पहली बार 1896 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में गाया गया था| इसका प्रथम पद इस प्रकार है|

वंदे मातरम्, वंदे मातरम्!

सुजलाम्, सुफलाम्, मलयज शीतलाम्,

शस्यश्यामलाम्, मातरम्!

शुभ्रज्योत्सनाम् पुलकितयामिनीम्,

फुल्लकुसुमित द्रुमदल शोभिनीम्,

सुहासिनीम् सुमधुर भाषिणीम्,

सुखदाम् वरदाम्, मातरम्!

वंदे मातरम्, वंदे मातरम्॥

राष्ट्रीय पंचांग

ग्रिगेरियन कैलेंडर के साथ साथ देशभर के लिए शक संवत् पर आधारित एकरूप राष्ट्रीय पंचांग, जिसका पहला महीना चैत्र है और सामान्य वर्ष 365 दिन का होता है| 22 मार्च 1957 को इन्हें सरकारी उद्देश्यों के लिए अपनाया गया|

(1) भारत का राजपत्र,

(2) आकाशवाणी के समाचार प्रसारण,

(3) भारत सरकार द्वारा जारी किए गए कैलेंडर और भारत सरकार द्वारा नागरिकों को संबोधित पत्र

राष्ट्रीय पंचांग और ग्रिगेयन कैंलेंडर की तारीखों में स्थाई सादृश्य है| चैत्र का पहला दिन सामान्यत: 22 मार्च को और अधिवर्ष में 21 मार्च को पड़ता है|

राजस्थान की आधारभूत जानकारिया Basic information on Rajasthan

राजस्थान का इतिहास

क्षेत्रफल की दृष्टी से राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य है| आजदी से पहले यह क्षेत्र राजपुताना या राजपूत एक योद्धा समुदाय कहलाता था| राजस्थान का इतिहास प्रागैतिहासिक कल से शुरू होता है|ईसा पूर्व 3,000 से 1,000 के बीच यंहा की सांस्कृति सिंधु घाटी सभ्यता जैसी थी| सातवीं शताब्दी में यहां चौहान राजपूतों का प्रभुत्व बढने लगा और बारहवीं शताब्दी तक उन्होंने साम्राज्य स्थापित कर लिया था|चौहान के बाद इस योद्धाजाति का नेतृत्व मेवाड़ के गहलोतों ने संभाला| मेवाड़ के अलावा जो अन्य रियासतें ऐतिहासिक दृष्टि से प्रमुख रही है| मारवाड़, जयपुर, बूंदी, कोटा, भरतपुर, और अलवर आदि| इसकी सीमा पश्चिम में पाकिस्तान, दक्षिण-पश्चिम में गुजरात, दक्षिण-पूर्व में मध्यप्रदेश, उत्तर में पंजाब (भारत), उत्तर-पूर्व में उत्तरप्रदेश और हरियाणा है। राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग कि॰मी॰ (1,32,139 वर्ग मील) है। 2011 की गणना के अनुसार राजस्थान की साक्षरता दर 66.11% हैं।

राजस्थान में पर्यटन

जयपुर राज्य की राजधानी है। भौगोलिक विशेषताओं में पश्चिम में थार मरुस्थल और घग्गर नदी का अंतिम छोर है। विश्व की पुरातन श्रेणियों में प्रमुख अरावली श्रेणी राजस्थान की एक मात्र पर्वत श्रेणी है, जो कि पर्यटन का केन्द्र है, माउंट आबू और विश्वविख्यात दिलवाड़ा मंदिर सम्मिलित करती है। पूर्वी राजस्थान में दो बाघ अभयारण्य, रणथम्भौर एवं सरिस्का हैं और भरतपुर के समीप केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान है, जो सुदूर साइबेरिया से आने वाले सारसों और बड़ी संख्या में स्थानीय प्रजाति के अनेकानेक पक्षियों के संरक्षित-आवास के रूप में विकसित किया गया है|

राजस्थान देशीय और अंतरराष्ट्रीय पर्यकटों, दोनों के लिए एक उचित पर्यटन स्थल है। भारत की पर्यटन करने वाला हर तीसरा विदेशी सैलानी राजस्थान देखने ज़रूर आता है| क्योंकि यह भारत आने वाले पर्यटकों के लिए गोल्डन ट्रायंगल का हिस्सा है। जयपुर के महल, उदयपुर की झीलें और जोधपुर, बीकानेर तथा जैसलमेर के भव्य दुर्ग भारतीय और विदेशी सैलानोयों के लिए सबसे पसंदीदा जगहों में से एक हैं। इन प्रसिद्ध स्थलों को देखने के लिए यहां हज़ारों पर्यटक आते हैं। जयपुर का हवामहल, जोधपुर, बीकानेर के धोरे काफी प्रसिद्ध हैं। जोधपुर का मेहरानगढ़ दुर्ग ,चित्तौड़गढ़ दुर्ग काफी प्रसिद्ध है। यहां राजस्थान में कई पुरानी हवेलियाँ भी है जो वर्तमान में हैरीटेज होटलें बन चुकी हैं।

भौगोलिक विशेषताओं में पश्चिम में थार मरुस्थल और घग्गर नदी का अंतिम छोर है। विश्व की पुरातन श्रेणियों में प्रमुख अरावली श्रेणी राजस्थान का कुल क्षेत्रफल 3 लाख 42 हजार 2 सौ 39 वर्ग कि.मी. है। जो की देश का 10.41 प्रतिशत है। राजस्थान में देश का 11 प्रतिशत क्षेत्र कृषि योग्य भूमि है और राज्य में 50 प्रतिशत सकल सिंचित क्षेत्र है जबकि 30 प्रतिशत शुद्ध सिंचित क्षेत्र है।

राजस्थान में कृषि

राजस्थान का 60 प्रतिशत क्षेत्र मरूस्थल और 10 प्रतिशत क्षेत्र पर्वतीय है। अतः कृषि कार्य संपन्न नहीं हो पाता है और मरूस्थलीय भूमि सिंचाई के साधनों का अभाव पाया जाता है। अधिकांश खेती राज्य में वर्षा पर निर्भर होने के कारण राज्य में कृषि को मानसून का जुआ कहा जाता है। राज्य की खेती को निम्न तीन नामों से जाना जाता है| रबी, खरीफ, जायद

रबी

रबी की फसल की बुआई अक्टूबर, नवम्बर में की जाती है तथा फरवरी मार्च में कटाई की जाती है| इसकी मुख्य फसल निम्न है| गेहूं जौ, चना, सरसो, मसूर, मटर, अलसी, तारामीरा, सूरजमुखी, रबी को उनालू भी कहा जाता है।

खरीफ

खरीफ की फसल की बुआई जून, जुलाई में की जाती है तथा सितम्बर-अक्टूबर में कटाई की जाती है| इसकी मुख्य फसल निम्न है| बाजरा, ज्वार, मूंगफली, कपास, मक्का, गन्ना, सोयाबीन, चावल आदि। खरीफ को स्यालु/सावणु कहा जाता है|

जायद

जायद की फसल की बुआई मार्च-अप्रेल में की जाती है तथा जून-जुलाई में कटाई की जाती है| इसकी मुख्य फसल निम्न है| खरबूजे, तरबूज ककडी आदि|

राजस्थान के खनिज व उद्योग

राजस्थान सांस्कृतिक रूप से समृद्ध होने के साथ-साथ खनिजों के मामले में भी समृद्ध रहा है और अब वह देश के औद्योगिक परिदृश्य में भी तेजी से उभर रहा है। राज्य के प्रमुख केंद्रीय प्रतिष्ठानों में देबारी (उदयपुर) में जस्ता गलाने का संयंत्र, खेतड़ी (झुंझुनू) में तांबा परियोजना और कोटा में सूक्ष्म उपकरणों का कारख़ाना शामिल है।राजस्थान के मुख्य उद्योग हैं वस्त्र, ऊनी कपडे, चीनी, सीमेंट, काँच, सोडियम संयंत्र, ऑक्सीजन, वनस्पति, रंग, कीटनाशक, जस्ता, उर्वरक, रेल के डिब्बे, बॉल बियरिंग, पानी व बिजली के मीटर, टेलीवीजन सेट, सल्फ्यूरिक एसिड, सिंथेटिक धागे तथा तापरोधी ईंटें आदि। बहुमूल्य और कम मूल्य के रत्नों के अलावा कास्टिक सोडा, कैलशियम कार्बाइड, नाइलोन तथा टायर आदि अन्य महत्त्वपूर्ण औद्योगिक इकाइयां हैं। राज्य में जिंक कंसंट्रेट, पन्ना, गार्नेट, जिप्सम, खनिज, चांदी, एस्बेस्टस, फैल्सपार तथा अभ्रक के प्रचुर भंडार हैं। राज्य में नमक, रॉक फास्फेट, मारबल तथा लाल पत्थर भी काफ़ी मात्रा में मिलता है। सीतापुर (जयपुर) में देश पहला निर्यात संवर्द्धन पार्क बनाया गया है भारत के सांद्रित जस्ता, सीसा, पन्ना व गार्नेट का संपूर्ण उत्पादन राजस्थान में ही होता है। देश में जिप्सम व चांदी अयस्क उत्पादन का लगभग 90 प्रतिशत भाग राजस्थान में होता है। राज्य को विद्युत आपूर्ति पड़ोसी राज्यों व चबंल घाटी परियोजना से होती है।

राजस्थान के प्रमुख त्यौहार

राजस्थान मेलों और उत्सवों की धरती है| राजस्थान में होली, दिपावली, रक्षा बन्धन, दशहरा, नववर्ष, गणगौर, आदि त्यौहार मनाय जाते है| राजस्थान के त्यौहारों की Trick दि गयी है|

त्यौहार

Trick तिथि
श्रावणी/छोटी तीज सासु श्रावण शुक्ला तीज
रक्षा बन्धन श्रावण पूर्णिमा
बड़ी तीज, सातुड़ी, कजली तीज BK भाद्र कृष्ण तीज
कृष्ण जन्माष्टमी BK भाद्र कृष्ण – 8
गोगानवमी BK भाद्र कृष्ण – 9
बछबारस BK भाद्र कृष्ण – 12
गणेश चतुर्थी बॅास(गणेश बॅास) भाद्र शुक्ला – 4
ऋषि पंचमी बॅास(ऋषि बॅास) भाद्र शुक्ला – 5
राधाष्टमी बॅास(कृष्ण की बॅास) भाद्र शुक्ला – 8
दुर्गाष्टमी दुर्गा सबको‘आशीष‘ आश्विन शुक्ल – 8
दशहरा रावण के ‘आंसू‘ आश्विन शुक्ल – 10
शरद पूर्णिमा AC(complete) आश्विन पूर्णिमा
करवा चौथ केक कार्तिक कृष्ण – 4
धनतेरस केक कार्तिक कृष्ण – 13
दिपावली राम‘कार मां‘ कार्तिक अमावस
देव उठनी ग्यारस देव उठे ‘काशी‘ में कार्तिक शुक्ला – 11
बसन्त पंचमी बसन्ती है तो ‘मौसी‘ है मागशीर्ष शुक्ला – 5
श्विरात्रि व्रत ‘फाका‘ फाल्गुन कृष्ण – 13
होली फुल पानी मां फाल्गुन पूर्णीमा
धुलंडी ‘चौक‘ में खेलो चैत्र कृष्ण – 1
शीतलाष्टमी ‘चौक‘ में मनाते हैं चैत्र कृष्ण – 8
नववर्ष चैन सुकुन चैत्र शुक्ला – 1
गणगौर ‘चुस्ती‘ का त्यौहार चैत्र शुक्ला तीज
रामनवमी चैन सुकून चैत्र शुक्ला – 9
आखातीज ‘विसिल‘ बजाते हैं वैसाख शुक्ला – 3
निर्जला ग्यारस पानी नहीं जूस जेष्ठ शुक्ला – 11
गुरू पूर्णिमा आप आषाढ़ पूर्णिमा
नाग पंचमी नाग पर ‘श्री कृष्ण‘ श्रावण कृष्ण – 5
घुड़ला रूपये नहीं ‘चेक‘ दे दो चैत्र कृष्ण – 8
हरियाली अमावस ‘शाम‘ को श्रावण अमावस
जलझुलनी ग्यारस जल में ‘भैंस‘

भाद्र शुक्ला – 11

भारतीय राजनीतिक संरचना Indian political structure

राज्यों का संघ भारत, धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक गणराज्य है| जिसमें शासन की संसदीय प्रणाली है| गणराज्य 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा द्वारा स्वीकृत और 26, जनवरी 1950 को लागु संविधान की व्यवस्थाओं के अनुसार प्रशासित किया गया|

संविधान में विधायी शक्तियां संसद एवं राज्य विधानसभाओं में विभजित है| तथा शेष शक्तियां संसद को प्राप्त है| संविधान में संशोधन का अधिकार भी भी संसद को प्राप्त है| संविधान में न्यायपालिका, भारत के नियंत्रण तथा महालेखा पारीक्षक , लोक सेवा आयोगों और मुख्य निर्वाचन आयोग की स्वतंत्रता  बनाए रखने के लिए प्रावधान है|

केंद्र और उसके क्षेत्र

भारत में 29 राज्य और सात केंद्रशासित प्रदेश है| ये राज्य निम्न है: आंध्र प्रदेश, असम, अरुणाचल प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, झारखंड, कर्नाटका, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडू, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तरप्रदेश, और पश्चिम बंगाल|

केन्द्रशासित प्रदेश: अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, चंडीगढ़, दादरा और नगर हवेली, दमन और दीव, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, लक्षद्वीप तथा पुद्दुचेरी|

नागरिकता

संविधान में संपूर्ण भारत में एक समान नागरिकता की व्यवस्था की गई है, ऐसा प्रत्येक व्यक्ति भारत का नागरिक मन गया है, जो संविधान लागू होने के दिन 26 जनवरी, 1950 से स्थाई रूप से भारत में रहता हो, जो भारत में पैदा हुआ हो, जिसके माता पिता में से किसी एक का जन्म भारत में हुआ हो, जो सामान्यता कम से कम पांच साल से भारत क्षेत्र में रहता हो| नागरिक अधिनियम, 1955 में संविधान लागू होने के पश्चात नागरिकता ग्रहण करने, निर्धारित करने के संबंध में प्रावधान किए गए है|

मौलिक अधिकार

संविधान में सभी नागरिकों के लिए व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से बुनयादी स्वतंत्रता की व्यवस्था की गई है| संविधान में मोटे तौर पर छः प्रकार की स्वतंत्रता की मौलिक अधिकारों के रूप में गारंटी डी गई है, जिसकी सुरक्षा के लिए न्यायालय की शरण लि जा सकती है| संविधान के तीसरे भाग, अनुछेद-12 से 35 तक, में मौलिक अधिकारों का उल्लेख किया गया है| ये मौलिक अधिकार निम्न है:-

1.समानता का अधिकार: कानून के समक्ष समानता, धर्म, वंश, जाती, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव का निषेध और रोजगार के लिए समान अवसर|

2.विचारों की स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति का अधिकार: सम्मेलन करना, संस्था या केंद्र बनाने, देश में सर्वत्र आने जाने, भारत के किसी भी भाग में रहने तथा कोई रोजगार या व्यवस्था करने का अधिकार (इनमें से कुछ अधिकारों को देश की सुरक्षा, विदेशों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों, लोक व्यवस्था, शिष्टता या नैतिकता में सीमित किया गया है)

  1. शोषण से रक्षा का अधिकार: इसके अंतर्गत सभी प्रकार की बेगार, बालश्रम और व्यक्तियों के क्रय विक्रय करने का निषेध किया जाता है|
  2. अंतःकरण की प्रेरणा तथा धर्म को निर्बाध रुप से मनाने, उसके अनुरूप आचरण करने और उसका प्रचार करने की स्वतंत्रता का अधिकार|
  3. नागरिकों के किसी भी वर्ग को अपनी संस्कृति, भाषा और लिपि को संरक्षित करने तथा अल्पसंख्यकों द्वारा पसंद की शिक्षा ग्रहण करने एवं शिक्षा संस्थानों की स्थापना करने का अधिकार|
  4. मौलिक अधिकारों को लागू करने के लिए संवैधानिक उपायों का अधिकार|

मौलिक कर्तव्य

1976 में पारित संविधान में 42 वें संशोधन के अंतर्गत, नागरिकों के मौलिक कर्तव्यों का भी उल्लेख किया गया है| यह कर्तव्य संविधान के भाग चार ‘ए’ के अनुच्छेद 51 ‘क’ में दिए गए हैं| इसमें अन्य बातों के अलावा यह कहा गया है कि नागरिकों का कर्तव्य है कि वह संविधान का पालन करें, स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए राष्ट्रीय संघर्ष को प्रेरित करने वाले आदर्शों का अनुसरण करें, देश की रक्षा करें और कहे जाने पर राष्ट्रीय सेवा में जुट जाएं| धर्म, भाषा और क्षेत्रीय तथा वर्ग संबंधि विभिन्नताओं को बुलाकर सदभाव और भाईचारे की भावनाओं को बढ़ावा दें|

राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांत

संविधान में निहित राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांत यधपि न्यायालयों द्वारा लागू नहीं कराया जा सकते| तथापि वे देश के प्रशासन का मूलभूत आधार है और सरकार का यह कर्तव्य है कि वह कानून बनाते समय इन सिद्धांतों का पालन करें\ यह सिद्धांत संविधान के भाग 4 के अनुच्छेद 36 से 51 में दिए गए हैं| उनमें कहा गया है- सरकार ऐसी प्रभावी सामाजिक व्यवस्था कायम करके लोगों के कल्याण के लिए प्रोत्साहन देने का प्रयास करेगी, जिससे राष्ट्रीय जीवन के सभी क्षेत्रों में सामाजिक, आर्थिक तथा राजनीतिक न्याय का पालन हो| सरकार ऐसी नीति निर्देशन करेगी जो सभी स्त्री पुरुषों को जीवनयापन के लिए यथेष्ट अवसर दें, समान कार्य के लिए समान वेतन तथा अपनी आर्थिक क्षमता, विकास की सीमाओं के अनुसार सबको काम तथा शिक्षा दिलाने की प्रभावी व्यवस्था करें और बेरोजगारी, बुढ़ापे, बीमारी तथा अपंगता या अन्य प्रकार की अक्षमता की स्थिति में सबको वित्तीय सहायता दे| सरकार श्रमिकों के लिए निर्वाह- वेतन, कार्य की मानवोचित दशाओं, रहन सहन के अच्छे स्तर तथा उधोगों के प्रबंधन में उनकी पूर्ण भागीदारी के लिए भी प्रयतन करेगी|

आर्थिक क्षेत्र में, सरकार को अपनी नीति इस ढंग से लागू करनी चाहिए जिससे कि समाज के भौतिक संसाधनों पर अधिकार और उनका लोगों के बीच इस प्रकार वितरण हो कि वे सभी लोगों के कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हो और यह सुनिश्चित हो कि आर्थिक व्यवस्था को लागू करने के परिणामस्वरुप सर्वसाधारण के हितों के विरुद्ध धन और उत्पादन के साधन कुछ भी लोगों के पास केंद्रीय नहीं हो सके|

कुछ अन्य महत्वपूर्ण निर्देशांक:-

  1. बच्चों को स्वास्थ वातावरण में विकास के लिए अवसर तथा सुविधाएं उपलब्ध कराना|
  2. 14 वर्ष तक के बच्चों के लिए निशुल्क तथा अनिवार्य शिक्षा की व्यवस्था करना|
  3. अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति और समाज के अन्य कमजोर वर्गों के शैक्षिक और आर्थिक हितों को बढ़ावा देना|
  4. ग्राम पंचायतों का गठन: करना कार्यपालिका से न्यायपालिका को अलग रखना|
  5. संपूर्ण देश के लिए समान नागरिक संहिता की घोषणा|
  6. राष्ट्रीय स्मारकों की सुरक्षा: समान अवसरों के आधार पर न्याय को बढ़ावा देना|
  7. नि:शुल्क कानूनी सहायता की व्यवस्था|
  8. पर्यावरण की सुरक्षा तथा सुधार|
  9. वनों एवं वन्यजीवों की सुरक्षा तथा अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा|
  10. राष्ट्रों के बीच न्यायोचित भाषा तथा समानतापूर्ण संबंधों को प्रोत्साहन|
  11. अंतरराष्ट्रीय कानूनों और संधियों की शर्तों का साम्मान एवं अंतरराष्ट्रीय विवादों को मध्यस्थता द्वारा निपटाने को बढ़ावा देना|

कार्यपालिका

केंद्रीय कार्यपालिका के अंतर्गत राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति तथा प्रधानमंत्री के नेतृत्व में एक मंत्रीपरिषद होता है, जो राष्ट्रपति को सहायता और सलाह देता है|

राष्ट्रपति

राष्ट्रपति का निर्वाचन एक निर्वाचन मंडल के सदस्य अनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के आधार पर एकल हस्तांतरणीय मत द्वारा करते हैं| इस निर्वाचन मंडल में संसद के दोनों सदनों तथा राज्यों की विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्य होते हैं| राज्यों के बीच आपस में समानता तथा राज्य और केंद्रों के बीच समानता बनाए रखने के लिए प्रत्येक मत को उचित महत्व दिया जाता है| राष्ट्रपति को अनिवार्य रूप से भारत का नागरिक, कम से कम 35 वर्ष की आयु तथा लोकसभा का सदस्य बनने का पात्र होना चाहिए| राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 वर्षों का होता है तथा पुनर्निर्वाचित किया जा सकता है| संविधान के अनुच्छेद-61 में निहित प्रक्रिया द्वारा उन्हें पद से हटाया जा सकता है| वह उपराष्ट्रपति को संबंधित स्व-हस्तलिखित पत्र द्वारा पद त्याग कर सकते है|

कार्यपालिका के समस्त अधिकार राष्ट्रपति में निहित है| वह उनका उपयोग संविधान के अनुसार स्वयं या अपने अधीनस्थ सरकारी अधिकारियों द्वारा कराते है| रक्षा सेनाओं की सर्वोच्च कमान भी राष्ट्रपति के पास होती है| राष्ट्रपति को संसद का अधिवेशन बुलाने, उसका सत्रावसान करने, संसद को संबोधित करने तथा संदेश भेजने, लोकसभा को भंग करने, दोनों सदनों के अधिवेशन काल को छोड़ कर किसी भी समय अध्यादेश जारी करने, बजट तथा वित्त विधेयक प्रस्तुत करने की सिफारिश करने तथा विधेयकों को स्वीकृति प्रदान करने, क्षमादान देने, दंड रोकने अथवा उनमें कमी या परिवर्तन करने या कुछ मामलों में दंड को स्थगित करने, छूट देने या दंड को बदलने के अधिकार प्राप्त होते हैं| किसी राज्य में संवैधानिक व्यवस्था के विफल हो जाने पर राष्ट्रपति उस सरकार के संपूर्ण या कोई भी अधिकार अपने हाथ में ले सकते हैं|

यदि राष्ट्रपति को इस बारे में विश्वास हो जाए कोई ऐसा गंभीर संकट पैदा हो गया है जिससे देश अथवा उसके किसी भी बात की सुरक्षा को युद्ध अथवा बाह्य आक्रमण या सशस्त्र विद्रोह का खतरा उत्पन्न हो गया है, तो वह देश में आपात स्थिति की घोषणा कर सकते हैं|

उपराष्ट्रपति

उपराष्ट्रपति का चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के अनुसार एकल हस्तांतरणीय मत द्वारा एक निर्वाचन मंडल के सदस्य करते हैं| निर्वाचन मंडल में दोनों सदनों के सदस्य होते हैं| उपराष्ट्रपति को अनिवार्य रूप से भारत का नागरिक, कम से कम 35 वर्ष की आयु का और राज्यसभा का सदस्य बनने का पात्र होना चाहिए| उनका कार्यकाल 5 वर्ष का होता है और इन्हें इस पद का पुननिर्वाचित किया जा सकता है| संविधान के अनुच्छेद-67 (ख) में निहित कार्यविधि द्वारा उन्हें पद से हटाया जा सकता है|

उपराष्ट्रपति राज्यसभा के पदेन सभापति होते हैं| जब राष्ट्रपति बीमारी या किसी अन्य कारण से अपना कार्य करने में असमर्थ हों या जब राष्ट्रपति की मृत्यु या पद त्याग या पद से हटाया जाने के कारण राष्ट्रपति का पद रिक्त हो गया है, तब छह महीने के भीतर नए राष्ट्रपति के चुने जाने तक वह राष्ट्रपति के रूप में कार्य कर सकते हैं| ऐसी स्थिति में वह राज्यसभा के सभापति के रूप में कार्य नहीं कर सकते|

मंत्रिपरिषद्

कार्य-संचालन में राष्ट्रपति की सहायता करने तथा उन्हें परामर्श देने के लिए प्रधानमंत्री के नेतृत्व में एक मंत्रिपरिषद् की व्यवस्था है| प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति करते हैं तथा अन्य मंत्रियों की नियुक्ति भी राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के परामर्श से करते हैं मंत्रिपरिषद् संयुक्त रूप से लोकसभा के प्रति उत्तरदायी होते हैं| प्रधानमंत्री का कर्तव्य है कि वह केंद्र के कार्यों के संचालन के संबंध में मंत्रिपरिषद् के निर्णय, कानून बनाने के प्रस्तावों तथा उनसे संबंधित जानकारियों से राष्ट्रपति को अवगत कराते रहें| मंत्रिपरिषद् में कैबिनेट मंत्री, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), राज्यमंत्री तथा उपमंत्री होते हैं|

विधायिका

केंद्र की विधायिका को ‘संसद’ कहा जाता है| इसमें राष्ट्रपति, दोनों सदनों (लोकसभा तथा राज्यसभा) शामिल है| संसद के दोनों सदनों की बैठक पिछली बैठक के 6 महीने के भीतर बुलानी होती है| कुछ अवसरों पर दोनों सदनों का संयुक्त अधिवेशन किया जाता है|

राज्यसभा

संविधान में व्यवस्था है की राज्यसभा में साहित्य, विज्ञान, कला और समाज सेवा आदि क्षेत्रों में विशेष ज्ञान या अनुभव रखने वाले 12 सदस्यों को राष्ट्रपति मनोनीत करेंगे तथा राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के चुने हुए सदस्यों की संख्या 238 से अधिक नहीं होगी| राज्यसभा के सदस्यों का विवरण परिशिष्ट में दिया जाता है|

राज्यसभा के सदस्यों का चुनाव अप्रत्यक्ष होता है; राज्यों का प्रतिनिधित्व करने वाले सदस्यों का चुनाव राज्यों की विधानसभाओं के चुने हुए सदस्यों द्वारा एकल हस्तांतरणीय मतों के आधार पर अनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के जरिए किया जाता है| केंद्रशासित प्रदेशों के प्रतिनिधियों का चुनाव संसद द्वारा निर्धारित कानून के अंतर्गत किया जाता है| राज्यसभा कभी भी भंग नहीं होती और उसके एक-तिहाई सदस्य हर 2 वर्ष के बाद अवकाश ग्रहण करते हैं|

लोकसभा

लोकसभा के सदस्य व्यस्क मताधिकार के आधार पर लोगों द्वारा सीधे चुने जाते हैं| संविधान में लोकसभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या अब 552 है 530 सदस्य राज्यों और 20 सदस्य केंद्रशासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करते हैं तथा राष्ट्रपति को आंगल भारतीय (एंग्लो इंडियन) समुदाय के दो व्यक्तियों को उस हालत में मनोनीत करने का अधिकार होता है, जब उन्हें ऐसा लगे लगे की सदन में इस समुदाय को पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं मिला है|

लोकसभा के लिए विभिन्न राज्यों की सदस्य संख्या का निर्धारण किस प्रकार किया जाता है कि राज्य के लिए निर्धारित सीटों की संख्या और उस राज्य की जनसंख्या का अनुपात, जहां तक व्यवहारिक रूप से संभव हो, सभी राज्यों में समान हो|

वर्तमान लोकसभा के 543 सदस्य हैं| इनमें से 530 सदस्य राज्यों से तथा 13 सदस्य केंद्रशासित प्रदेशों से सीधे चुने गए हैं| 84वें संविधान संशोधन विधेयक 2001 के तहत विभिन्न राज्यों में लोकसभा की वर्तमान सीटों की कुल संख्या का निर्धारण 1971 की जनगणना के आधार पर किया गया है तथा 2026 के बाद की जाने वाली पहली जनगणना तक इसमें कोई फेर-बदल नहीं किया जाएगा|

लोकसभा का कार्यकाल, यदि उसे भंग न किया जाए, सदन की पहली बैठक की तिथि से लेकर 5 वर्ष होता है| किंतु यदि आपात स्थिति लागू हो तो यह अवधि संसद द्वारा कानून बनाकर बढ़ाई जा सकती है| परंतु यह वृद्धि एक समय पर 1 वर्ष से अधिक नहीं हो सकती और आपात स्थिति समाप्त होने के बाद किसी भी हालत में 6 महीने से अधिक समय तक नहीं हो सकती है|

Rajasthan GK in Hindi part-8

2476. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान के किस जिले में साक्षरता सर्वाधिक है-
A. भीलवाड़ा B. चुरू C. कोटा D.अजमेर
Ans.c
2475. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राज्य का जनसंख्या घनत्व कितना रहा हुई-
A. 202 B. 201 C. 206 D.195
Ans.b
2474. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राज्य में पुरुष साक्षरता में कितने प्रतिशत वृद्धि हई है-
A. 1.53% B. 2.35% C. 3% D.1.64%
Ans.d
2473. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राज्य में साक्षरता दर कितने प्रतिशत रही?
A. 67.06% B. 62.66% C. 72% D.63.05%
Ans.a
2458. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान के किस जिले की साक्षरता दर सबसे कम रही-
A. बीकानेर B. भरतपुर C. जालौर D.डूंगरपुर
Ans.c
2457. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान की जनसंख्या 2001 की अपेक्षा कितने प्रतिशत वृद्धि हई है-
A. 16.4% B. 22.8% C. 17.6% D.21.44%
Ans.d
2445. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान के किस जिले में लिंगानुपात सबसे कम रहा-
A. टोंक B. धौलपुर C. अलवर D.अजमेर
Ans.b
2444. भारत की पहली जल विद्युत परियोजना 1902 में कहाँ स्थापित की गई?
A. रिहन्द B. भाखड़ा नांगल C. दामोदर घाटी D.शिवसमुद्रम
Ans.d
2432. पोंग बांध किस नदी पर बनाया गया है?
A. व्यास B. ताप्ती C. कोसी D.सतलज
Ans.a
2431. राज्य में लाख उद्योग के प्रमुख केंद्र है-
A. जयपुर- उदयपुर B. करौली- दौसा C. जोधपुर- पाली D.जयपुर- टोंक
Ans.a

Rajsthan GK in Hindi Part-5 (राजस्थान का भूगोल)

2420. मशीनों द्वारा दालों को मोगरा बनाने कारखाना है-
A. बीकानेर जिले में B. टोंक जिले में C. जोधपुर जिले में D.उदयपुर जिले में
Ans.d


2419. राज्य में कीटनाशी रसायनों का निर्माण कहाँ पर होता है?
A. उदयपुर B. चितौड़गढ़ C. झुंझुनूं D.अलवर
Ans.a


2418. राजस्थान राज्य में सर्वप्रथम सती प्रथा को जिस जिले में निषेधित किया गया है, वह है-
A. बूंदी B. जोधपुर C. पाली D.डूंगरपुर
Ans.a


2406. सीमेंट उत्पादन में राजस्थान का देश में कौनसा स्थान है?
A. पहला B. दूसरा C. तीसरा D.सातवाँ
Ans.c


2405. राज्य में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग का प्रमुख केंद्र है?
A. जयपुर B. अजमेर C. अलवर D.कोटा
Ans.c


2393. वर्ष 2011 के अनुसार राज्य में साक्षरता का प्रतिशत है-
A. 61.40 B. 67.06 C. 68.94 D.65.30
Ans.b


2392. जनसंख्या की दृष्टी से राजस्थान का देश में कौनसा स्थान है?
A. सातवाँ B. आठवाँ C. नौवाँ D.दसवाँ
Ans.b


2380. राज्य का वह जिला जिसमें सबसे अधिक वन्य जीव अभ्यारण्य है-
A. उदयपुर B. सवाई माधोपुर C. अलवर D.कोटा
Ans.a


2379. पीवण किस प्रजाति का जीव है-
A. अजमेर B. घडियाल C. सर्प D.चूहा
Ans.c


2367. राज्य में मुर्गीपालन प्रशिक्षण केंद्र कहाँ स्थित है-
A. भरतपुर B. टोंक C. जयपुर D.अजमेर
Ans.d


Rajsthan GK in Hindi Part-4 (राजस्थान का भूगोल)

2476. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान के किस जिले में साक्षरता सर्वाधिक है-
A. भीलवाड़ा B. चुरू C. कोटा D.अजमेर
Ans.c


2475. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राज्य का जनसंख्या घनत्व कितना रहा हुई-
A. 202 B. 201 C. 206 D.195
Ans.b


2474. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राज्य में पुरुष साक्षरता में कितने प्रतिशत वृद्धि हई है-
A. 1.53% B. 2.35% C. 3% D.1.64%
Ans.d


2473. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राज्य में साक्षरता दर कितने प्रतिशत रही?
A. 67.06% B. 62.66% C. 72% D.63.05%
Ans.a


2458. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान के किस जिले की साक्षरता दर सबसे कम रही-
A. बीकानेर B. भरतपुर C. जालौर D.डूंगरपुर
Ans.c


2457. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान की जनसंख्या 2001 की अपेक्षा कितने प्रतिशत वृद्धि हई है-
A. 16.4% B. 22.8% C. 17.6% D.21.44%
Ans.d


2445. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान के किस जिले में लिंगानुपात सबसे कम रहा-
A. टोंक B. धौलपुर C. अलवर D.अजमेर
Ans.b


2444. भारत की पहली जल विद्युत परियोजना 1902 में कहाँ स्थापित की गई?
A. रिहन्द B. भाखड़ा नांगल C. दामोदर घाटी D.शिवसमुद्रम
Ans.d


2432. पोंग बांध किस नदी पर बनाया गया है?
A. व्यास B. ताप्ती C. कोसी D.सतलज
Ans.a


2431. राज्य में लाख उद्योग के प्रमुख केंद्र है-
A. जयपुर- उदयपुर B. करौली- दौसा C. जोधपुर- पाली D.जयपुर- टोंक
Ans.a

Rajsthan GK in Hindi part-3 (राजस्थान का भूगोल)

2542. 1991 में प्रति हजार पुरुष पर स्त्रियों की संख्या कितनी है?
A. 927 B. 946 C. 941 D.936
Ans.a


2541. उत्तर भारत का मैनचेस्टर किसे कहा जाता है?
A. मोदीनगर B. वाराणसी C. कानपुर D.आगरा
Ans.c


2522. किस शहर को उत्तम वस्त्र तैयार करने के कारण पूर्ण का बोस्टर कहते है?
A. इंदौर B. अहमदाबाद C. मदुरै D.कलकत्ता
Ans.b


2521. किस नगर को सूती कपड़ों की राजधानी की संज्ञा दी जाती है?
A. अहमदाबाद B. कोयम्बटूर C. मुम्बई D.पुणे
Ans.c


2520. कोरबा का एल्युमीनियम कारखाना किस राज्य में है?
A. मध्यप्रदेश B. बिहार C. आन्ध्रप्रदेश D.राजस्थान
Ans.d


2519. रूस के सहयोग से कौनसा लोहा इस्ताप केंद्र स्थापित किया गया?
A. दुर्गापुर B. सलेम C. बोकारो D.भिलाई
Ans.d


2518. जर्मनी के सयोग से कौनसा लोहा इस्ताप केंद्र स्थापित किया गया?
A. भिलाई B. राउरकेला C. बोकारो D.दुर्गापुर
Ans.b


2496. निम्नलिखित में से कोयला क्षेत्र के निकट कौनसा लौह इस्थाप केंद्र नहीं है?
A. बर्नपुर B. कुल्टी C. बोकारो D.भिलाई
Ans.c


2495. विदर्भ किस राज्य के एक भाग का नाम है?
A. गुजरात B. महाराष्ट्र C. मध्यप्रदेश D.आन्ध्रप्रदेश
Ans.a


2494. जनगणना 2011 के अनन्तिम आँकड़ों के अनुसार राजस्थान में लिंगानुपात की दर है-
A. 842 B. 926 C. 940 D.906
Ans.b


Rajasthan GK in Hindi Part-2 (राजस्थान का भूगोल)

राजस्थान सामान्य  ज्ञान के प्रश्न (Rajasthan GK in Hindi) – Geography of Rajasthan

2681. राजस्थान के किस क्षेत्र में सागौन के वन पाए जाते है-

A. मध्य B. दक्षिणी C. उत्तर- पूर्व D.उत्तर- पश्चिमी

Ans.b


2680. राजस्थान में सर्वाधिक मृदा अपरदन कौनसी नदी द्वारा होती है-
A. चम्बल B. बनास C. लूनी D.माही

Ans.a


2679. मुल्तानी मिट्टी में राजस्थान राज्य का स्थान है?
A. पहला B. दूसरा C. तीसरा D.चौथा

Ans.d


2678. देहस में राजस्थान किस खनिज में दूसरा एथान रखता है?
A. टेल्क B. चांदी C. जिप्सम D.तांबा अयस्क

Ans.d


2677. राजस्थान राज्य विद्युत मंडल की स्थापना किस वर्ष की गई?
A. 1990 B. 1957 C. 1962 D.1981

Ans.b


2649. राजस्थान में वनरोपण अनुसन्धान केंद्र स्थित है?
A. जयपुर B. जोधपुर C. अजमेर D.बीकानेर

Ans.b


2648. राजस्थान के शुष्क सागवान वनों के महत्वपूर्ण वृक्ष हैं?
A. बरगद, आम, तेंदू, गूलर B. धोंकड़ा, खैर, ढाक, बांस C. बांस, सिरस, जामुन, नीम D.खेजड़ी, बांस, तेंदू, आम

Ans.a


2647. प्रत्येक बच्चा, एक पेड़ का लक्ष्य स्कूली कार्यक्रम किस पंचवर्षीय योजना में चलाया गया था?
A. तृतीय B. छठी C. चतुर्थ D.सातवीं

Ans.b


2646. राजस्थान में सागवान के वन किस जिले में पाए जाते हैं?
A. सिरोही, पाली B. बारां, बांसवाडा C. राजसमन्द, भीलवाड़ा D.सिरोही, जालौर

Ans.b


2628. डेजर्ट फेस्टिवल का सम्बन्ध किस जिले से है?
A. बीकानेर B. बाड़मेर C. जैसलमेर D.गंगानगर

Ans.c

Geography of Rajasthan Part-1 (राजस्थान का भूगोल)


2627. राजस्थान में रेल-वैगन कारखाना (CIMMCO) स्थित है-
A. टोंक B. भरतपुर C. जयपुर D.डूंगरपुर

Ans.b


Rajasthan GK in hindi – Geography of Rajasthan objective type Questions and Answers.

2626. राज्य में हस्त-शिल्प उद्योग वर्ग के अंतर्गत स्थित है?
A. वृहद उद्योग B. लघु उद्योग C. कुटीर उद्योग D.अति लघु उद्योग

Ans.c


2625. राजस्थान में एयर कार्गो काम्प्लेक्स कहाँ स्थित है?
A. सांगानेर B. जयपुर C. जोधपुर D.उदयपुर

Ans.b


2564. कटनी किस लिये प्रशिद्ध है-
A. इस्पात B. सीमेंट C. एल्युमीनियम D.कार

Ans.b


2563. दिहांग तथा लोहित नदियों की घाटियों में कौनसी जनजाति पायी जाती है?
A. सिंगपो B. मेजू C. डंफला D.मिश्मी

Ans.d


2562. भारतवर्ष में सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या वाला राज्य है-
A. दिल्ली B. उत्तर प्रदेश C. महाराष्ट्र D.प.बंगाल

Ans.b


2561. भारतवर्ष के किस राज्य में कुल नगरीय जनसंख्या का सर्वाधिक प्रतिशत निवास करता है?
A. दिल्ली B. उत्तर प्रदेश C. महाराष्ट्र D.उदयपुर

Ans.c


2545. भारत की कुल जनसंख्या का कितने प्रतिशत नगरों में निवास करता है?
A. 24.12% B. 25.71% C. 20.25% D.30.12%

Ans.b


2544. भारत की कुल जनसंख्या का कितने प्रतिशत गाँवों में निवास करता है?
A. 70.25% B. 71.26% C. 76.13% D.74.29%

Ans.d


2543. 1981 को जनगणनानुसार कौनसा नगर मिलियन नगर नहीं था?
A. आगरा B. जयपुर C. लखनऊ D.पुणे

Ans.a