यांत्रिक ऊर्जा Mechanical energy

किसी पिंड में उसकी स्थिति अथवा गति के कारण निहित ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा कहते है। यांत्रिक ऊर्जा को निम्न दो भागो में विभक्तकिया गया है|

  1. गतिज ऊर्जा
  2. स्थितिज ऊर्जा

किसी तंत्र की स्थितिज ऊर्जा एवं गतिज ऊर्जा का योग तंत्र की कुल यांत्रिक ऊर्जा कहलाती है।किसी समय किसी system की सम्पूर्ण ऊर्जा, स्थितिज ऊर्जा अथवा गतिज ऊर्जा के रुप में हो सकती है।

  1. गतिज उर्जा

किसी पिंड में उसकी गति के कारण निहित ऊर्जा को गतिज ऊर्जा कहते है।बहते जल में, धनुष से छोड़े गये तीर में, खिलाड़ी द्वारा फेंके गये गेंद में गतिज ऊर्जा होती है।

यदि द्रव्यमान m का पिंड वेग से गतिशील है तो इसकी गतिज ऊर्जा को निम्न प्रकार से व्यक्त कर सकते है|

यदि पिंड का संवेग p हो तो….

अर्थात किसी पिंड की गतिज ऊर्जा उसकी वेग पर निर्भर करती है।गतिज ऊर्जा का SI प्रणाली में मात्रक Joule है। गतिज ऊर्जा सदैव धनात्मक होती है। किसी पिंड की गतिज ऊर्जा निर्देश तंत्र पर निर्भर करती है।वायु की गतिज ऊर्जा का उपयोग पवन चक्की में किया जाता है जिससे Turbine चलाकर Electricity उत्पन्न की जाती है।

  1. स्थितिज उर्जा

किसी पिंड में उसकी स्थिति अथवा अभिविन्यास के कारण जो ऊर्जा होती हैउसेस्थितिज ऊर्जा कहते है। स्थितिज ऊर्जा पिंड में संग्रहीत ऊर्जा के रुपमें होती है। खिंचे हुए धनुष के तार में, किसी उँचाई पर रखे गये पिंड मेंस्थितिज ऊर्जा होती है।

किसी संरक्षी बल F के लिये, स्थितिज ऊर्जा में परिवर्तन ΔU बल द्वारा किये गये ऋणात्मक कार्य के बराबर होता है।

जब किसी पिंड को बिना गति प्रदान किये पृथ्वी सतह से h उँचाई ऊपर उठायाजाता है तो बाह्य कारक द्वारा गुरुत्वाकर्षण बल के विरुद्ध किया गया कार्य mgh होगा। यह कार्य स्थितिज ऊर्जा के रुप में संचित होजाता है।

 

भारत में कर क्रांति(GST) की लॉन्चिंग(Launching of Tax Revolution (GST) in India)

देश के अब तक के सबसे बड़े कर सुधार जीएसटी (GST), की लॉन्चिंग 30 जुलाई रात 12 बजते ही राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की, इस लॉन्चिंग के साथ भारत जीएसटी लागू करने वाला 161वां देश बन गया है| जीएसटी 1 जुलाई 2017 से लागू है| जीएसटी क्या है?, जीएसटी की आवश्यकता क्या है?, जीएसटी की विशेषताएं और जीएसटी की नई दरें क्या है|

जीएसटी क्या है?

जीएसटी (GST), एक एकीकृत कर प्रणाली है| भारत के कर ढांचें में सुधार का एक बहुत बड़ा कदम है। जो केंद्र और राज्यों को वस्तु एंव सेवा कर (Goods and Service Tax) एक अप्रत्यक्ष कर कानून है (Indirect Tax) है। जीएसटी (GST), जो वस्तुओं और सेवाओं दोनों पर लगाया जायगा| जीएसटी लागू होने से पूरा देश, एकीकृत बाजार में बदल जाएगा और ज्यादातर अप्रत्यक्ष कर जैसे केंद्रीय उत्पाद शुल्क (Excise), सेवा कर (Service Tax), वैट (Vat), मनोरंजन, लॉटरी टैक्स आदि जीएसटी में समाहित हो जाएंगे। इससे पूरे भारत में एक ही प्रकार का अप्रत्यक्ष कर लगेगा|

जीएसटी(GST) की आवश्यकता क्या है?

भारत का (GST) से पहले का कर ढांचा बहुत ही कठिन था। भारतीय संविधान के अनुसार से वस्तुओं की बिक्री पर कर लगाने का अधिकार राज्य सरकार और वस्तुओं के उत्पादन व सेवाओं पर कर लगाने का अधिकार केंद्र सरकार के पास है। इस कारण देश में विभिन्न प्रकार क्र कर लागू थे, जिससे देश की वर्तमान कर व्यवस्था बहुत ही जटिल थी| इस जटिल व्यवस्था से निपटने का जीएसटी एक पहलु था जीएसटी को लागु कारण कर व्यवस्था को सरल तथा आसान बनाना है| GST केवल अप्रत्यक्ष कर को एकीकृत करेगी, अन्य सभी प्रत्यक्ष कर वर्तमान व्यवस्था के अनुसार ही लगेंगे।

जीएसटी की विशेषताएं|

1. जीएसटी (GST), एक एकीकृत कर प्रणाली है| जीएसटी के लागू होने से पूरे भारत में सभी अप्रत्यक्ष कर एक सामान होंगे| जिससे वस्तुओं और सेवाओं की कीमत में स्थिरता आएगी

2. जीएसटी को दो स्तर पर लगाया गया है – सीजीएसटी (केंद्रीय वस्तु एंव सेवा कर) और एसजीएसटी (राज्य वस्तु एंव सेवा कर)। सीजीएसटी का हिस्सा केंद्र को और एसजीएसटी का हिस्सा राज्य सरकार को प्राप्त होगा|

3. व्यवसायी ख़रीदी गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी की इनपुट क्रेडिट ले सकेंगे जिनका उपयोग वे बेचीं गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी के भुगतान में कर सकेंगे। सीजीएसटी की इनपुट क्रेडिट का उपयोग आईजीएसटी व सीजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान, एसजीएसटी की क्रेडिट का उपयोग एसजीएसटी व आईजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान और आईजीएसटी की क्रेडिट का उपयोग आईजीएसटी, सीजीएसटी व एसजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान में किया जा सकेगा ।

4. GST के तहत उन सभी व्यवसायी, उत्पादक या सेवा प्रदाता को रजिस्टर्ड होना होगा जिन की वर्षभर में कुल बिक्री का मूल्य एक निश्चित मूल्य से ज्यादा है।

5. प्रस्तावित जीएसटी में व्यवसायियों को मुख्य रूप से तीन अलग अलग प्रकार के टैक्स रिटर्न भरने होंगे जिसमें इनपुट टैक्स, आउटपुट टैक्स और एकीकृत रिटर्न शामिल है।

6. जीएसटी (GST), एक एकीकृत कर प्रणाली है| जिससे कर प्रणाली आसान तथा सरल होगी|

जीएसटी की नई दरें

जीएसटी 1 जुलाई 2017 से लागू है, और जीएसटी दरें जीएसटी परिषद द्वारा तय की जाती हैं, जीएसटी परिषद भारत में 5 जीएसटी मूल्य स्लैब तय करता है, अर्थात भारत में जीएसटी दरों में 0%,5%, 12%, 18% और 28% है

क्र.सं.

माल

कर

1. ताजा मांस, जूट, अंडे, मछली, चिकन, मक्खन , दूध, ताजा फल, दही, प्राकृतिक शहद, सब्जियां, आटा, रोटी, बेसन, प्रसाद, बिंदी, सिंदूर, स्टैम्स, नमक, न्यायिक जैसी वस्तुओं पर कोई कर नहीं है। कागज़, अख़बार, मुद्रित किताबें, हाथों का कूपर, चूड़ियां, हड्डी और सींग कोर, हड्डी का भोजन, आदि पर कर न्यूनतम है। 0%
2. मछली पट्टिका, पैकेज किए गए खाद्य पदार्थों, 1000 रुपये से नीचे के कपड़ों, , स्किम्ड मिल्क पावर, क्रीम, ब्रांडेड, कॉफी, फ्रोजन सब्जियां, चाय, पिज्जा रोटी, मसाले, सबुदाणा, रास्क, कोयला, केरोसीन, दवाइयां, लाइफबोट्सम स्टेंट, रेसिन, काजू, काजू, आइस एंड हिम, इंसुलिन, बायो गैस, पतंग, अगबबट्टी, राजस्व या डाक टिकट, आदि| 5%
3. जमे हुए मांस उत्पादों, 1000 रुपये से ऊपर परिधान, पनीर, सूखे फल में पैक किए गए फॉर्म, फलों के रस, सॉसेज, भूटिया, आयुर्वेदिक दवाओं, रंगीन किताबें, सिलाई मशीन, नमकेन, पशु वसा, बजाना कार्ड, शतरंज बोर्ड, कैरम बोर्ड और अन्य बोर्ड गेम्स जैसे कि लुडो, सभी डायग्नोस्टिक किट और अभिकर्मक, दांत पाउडर, तस्वीर की किताबें, छतरी, केचप और सॉस, सेलफोन, व्यायाम किताबें और नोटबुक, स्किमर्स, केक सर्वर, चम्मच, मछली के चाकू, चिमटे, कांटे , चक्रीय, अगरबत्ती, सुधारात्मक 12%
4. 500 रुपये से अधिक की लागत वाली जूते, परिष्कृत परिष्कृत चीनी, बिस्कुट, पास्ता, बिडी पट्टा, पेस्ट्री और केक, कॉर्नफ़्लेक्स, स्विमिंग पूल और पैडिंग पूल, बांस फर्नीचर, संरक्षित सब्जियां, सॉस, तत्काल भोजन मिक्स, लिफाफे, ऊतक, करी पेस्ट, खनिज पानी , मेयोनेज़ और सलाद ड्रेसिंग, जाम, सूप, टैम्पोन, स्टील उत्पाद, मुद्रित सर्किट, कैमरा, आइसक्रीम, स्पीकर और मॉनिटर, काजल पेंसिल चिपकियां, हेडगियर और उसके भागों, विद्युत ट्रांसफार्मर, सीसीटीवी, मिश्रित मसाले और मिश्रित मसाले, नोटबुक, वजनी मशीनरी, प्रिंटर, ऑप्टिकल फाइबर, एल्यूमिनियम पन्नी आदि| 18%
5. चबाने वाली गम, गुड़, बिडिस, वेफल्स और वेफर्स जिन्हें चॉकलेट, कोको, वजन वाली मशीन, पैन मसाला, वॉटर हीटर, डिओडोरेंट्स, शेविंग क्रीम, वाशिंग मशीन, दाढ़ी, एटीएम, सनस्क्रीन, वॉलपेपर, हेयर शैम्पू, हेयर कतरनी , ऑटोमोबाइल, मोटरसाइकिल, व्यक्तिगत उपयोग के लिए विमान, डाई, सिरेमिक टाइल्स, डिशवॉशर, वेंडिंग मशीन, वातित पानी, वैक्यूम क्लीनर, शावर, पेंट, जीएसटी सिस्टम के तहत 28% कर सबसे अधिक है। 28%